शुक्रवार, 31 जनवरी 2020

जिंदगी ख्वाबों में तू मेरी यादों में तू
जिंदगी तू हकीकत में क्यूँ नहीं ?
@ सुधाकर आशावादी 

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें